विधि-विधान से मंत्रोच्चार के साथ अन्नाधिवास…..

विधि विधान मंत्रोच्चार अन्नाधिवास

विधि विधान मंत्रोच्चार अन्नाधिवास

विधि विधान मंत्रोच्चार अन्नाधिवास आरा नगर के गोढ़ना रोड स्थित धर्माधी ट्रस्ट नागेश्वरनाथ मंदिर मे नागेश्वरनाथ की मूर्ति की स्थापना के लिए 28/01/2020, मंगलवार को विधि-विधान से मंत्रोच्चार के साथ अन्नाधिवास कराया गया |

अन्नाधिवास से पहले पूजा शुरू

परिक्रमा करती महिलाएं….

मंदिर मे मूर्ति की स्थापना व प्राण प्रतिष्ठा गुरुवार को होंगी | श्री रूद्र चंडी हनुमंत प्राण प्रतिष्ठात्मक महायज्ञ मे नागेश्वरनाथ मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा व पूजनोत्सव कार्यक्रम मे बढ़ चढ़कर शामिल हुए |

भक्तों द्वारा चावल व गेहूं दान किया गया | जिससे कि भगवान नागेश्वर जी को उससे ढका जा सके | मंदिर मे मूर्ति की स्थापना 30/01/20, गुरुवार को होंगी | महायज्ञ में भक्तों की आस्था और क्षेत्र के चौमुखी कल्याण के लिए स्थानीय लोगों द्वारा महंत श्री राम बालक दास जी महाराज उर्फ भीम बाबा और आचार्य श्री प्रकाश पांडे जी महाराज के आचार्यत्व मैं नागेश्वरनाथ का सात दिवसीय प्राण प्रतिष्ठा और पूजन का कार्यक्रम शुरू किया गया |

इसी क्रम में सुबह नागेश्वरनाथ की मूर्ति का पहले जलाधिवास,घृतावास, पुष्पाधिवास कराया गया | इसके बाद अन्नाधिवास एवं वस्त्राधिवास वैदिक मंत्रोच्चार के साथ कराया गया | महंत श्री राम बालक दास जी महाराज ने बताया कि बुधवार को नागेश्वरनाथ को हल्दी लगाई जाएगी और उन्हें स्नान कराई जाएगी और स्नान क्या जाएगा | इसके बाद आरआर नगर के गोढ़ना रोड में शोभायात्रा निकाली जाएगी |

अन्नाधिवास होने के बाद महंत श्री राम बालक दास जी की आरती हुई | जिसमे भक्तो की भीड़ और उनके श्रद्धा को देखा गया | अन्नाधिवास के पहले यज्ञ मे आहुति दी गई | जिसमे सारे यजमान शामिल हुए | ज़ब अन्नाधिवास शुरू हुवा तो उसमे इस महायज्ञ के अध्यक्ष-सुनील कुमार (पूर्व महापौर), उपाध्यक्ष-पप्पू सिंह (शिक्षक), सचिव- सनोज यादव, कोषाध्यक्ष- ए.के. सिंह (एडवोकेट), अरविन्द कुमार त्यागी, गणपति जी, महामंत्री- बंटी साह, सतेंद्र सिंह, जगतेश्वर सिंह, सोनाधारी सिंह, और संयोजक- जनार्दन सिंह भी शामिल रहे |

श्री राम बालक दास जी महाराज उर्फ भीम बाबा जी की आरती…..

उसके बाद रोज की तरह शाम 4:00 बजे से प्रवचन शुरू हुआ और भक्तों की भीड़ देखने को मिला | प्रवचन के बाद सारे भक्तों ने आरती की और आरती करने के बाद प्रसाद लिया | फिर शाम को 9:00 बजे से लंगर शुरू हुई और इस लंगर में बहुत सारे भक्तों की भीड़ उमड़ पड़ी |

श्री सरस्वती चालीसा: वसंत पंचमी के बारे में इस पवित्र पाठ को पढ़ना न भूलें, सभी संकट समाप्त हो जाएंगे

Please follow and like us: