brahmins

Horoscope
Get FREE HOROSCOPE in 30 seconds
Date of birth
Time of Birth
Gender

मंदिर की घंटियों का वैज्ञानिक कारण जानकर हैरान रह जाएंगे आप

मंदिर घंटियों वैज्ञानिक कारण

मंदिर घंटियों वैज्ञानिक कारण मंदिर घंटियों वैज्ञानिक कारण किसी भी मंदिर में प्रवेश करते समय एक बड़ा घंटा या कई घंटियाँ बांध दी जाती हैं। प्रत्येक भक्त जो मंदिर में प्रवेश करता है, पहले घंटनाद करता है और फिर मंदिर में प्रवेश करता है। इसके पीछे क्या कारण है? दरअसल, इसके वैज्ञानिक कारण हैं। जब […]

Read More »

यह काम दरवाजे पर करें, कोई दिक्कत नहीं होगी

यह काम दरवाजे दिक्कत

यह काम दरवाजे दिक्कत यह काम दरवाजे दिक्कत एक नया घर बनाने के बाद, सभी लोग ध्यान दिए जाने से डरते हैं। लोगों के मन में भय है कि कहीं कोई बाधा न हो। ऐसी स्थिति में छोटे-छोटे उपाय आपके नए घर को बुरी नजर से बचा सकते हैं। इसके लिए, आपको मुख्य दरवाजे की […]

Read More »

मानव जीवन का लक्ष्य क्या है?

मानव जीवन लक्ष्य क्या

मानव जीवन लक्ष्य क्या मानव जीवन लक्ष्य क्या मानव जीवन का लक्ष्य है समग्रता से खिलना, खुलना और खेलना यानी अपनी उच्चतम संभावना को खोलना। जैसे बगिया का हर फूल पूर्ण रूप से खिलना चाहता है। हर फूल का लक्ष्य होता है कि वह पूर्ण खिले और हवाओं के ज़रिए अपनी ख़ुशबू चारों दिशाओं में […]

Read More »

राजगीर पर्यटन बौद्ध धर्म, जैन धर्म और शांति “

राजगीर पर्यटन बौद्धधर्म जैनधर्म

राजगीर पर्यटन बौद्धधर्म जैनधर्म राजगीर पर्यटन बौद्धधर्म जैनधर्म राजगीर वह शहर है, जहां की खूबसूरत वादियों को घेरने वाली हवा, बौद्ध धर्म और जैन धर्म के साथ जुड़ाव के साथ आध्यात्मिकता और इतिहास के जीवंत संकेत देती है। एक हरी घाटी में स्थित और चट्टानी पहाड़ियों से घिरा, राजगीर घने जंगलों, रहस्यमयी गुफाओं और झरनों […]

Read More »

वैशाली पर्यटन महत्वपूर्ण धार्मिक

वैशाली पर्यटन महत्वपूर्ण धार्मिक

वैशाली पर्यटन महत्वपूर्ण धार्मिक वैशाली पर्यटन महत्वपूर्ण धार्मिक बिहार के अंदरूनी हिस्सों में स्थित, वैशाली एक छोटा जिला है जो एक श्रद्धालु हिंदू, बौद्ध और जैन पूजा स्थल भी है। यह वह शहर है जहाँ भगवान महावीर का जन्म हुआ था। माना जाता है कि दुनिया के पहले गणराज्य के रूप में, वैशाली का नाम […]

Read More »

ब्राह्मण के क्रोध और आत्मसम्मान का प्रतीक हे कुलधरा

ब्राह्मण के क्रोध और आत्मसम्मान का प्रतीक हे कुलधरा

कुलधरा – ब्राह्मणों के क्रोध का प्रत्तिक जहां आज भी लोग जाने से डरते हैं। राजस्थान के जैसलमेर शहर से 18 किमी दूर स्थित कुलधरा गाव आज से 500 साल पहले 600 घरो और 85 गावो का पालीवाल ब्रह्मिनो का साम्राज्य ऐसा राज्य था जिसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती हे… रेगिस्तान के बंजर […]

Read More »

ब्राह्मणों की वंशावली

ब्राह्मणों की वंशावली

ब्राह्मणों की वंशावली ब्राह्मणों की वंशावली भविष्य पुराण के अनुसार ब्राह्मणों का इतिहास है की प्राचीन काल में महर्षि कश्यप के पुत्र कण्वय की आर्यावनी नाम की देव कन्या पत्नी हुई। ब्रम्हा की आज्ञा से दोनों कुरुक्षेत्र वासनी सरस्वती नदी के तट पर गये और कण् व चतुर्वेदमय सूक्तों में सरस्वती देवी की स्तुति करने […]

Read More »

सीता माता द्वारा दिया श्राद्ध भोज

सीता माता द्वारा दिया श्राद्ध भोज

सीता माता द्वारा दिया श्राद्ध भोज सीता माता द्वारा दिया श्राद्ध भोज भगवान श्रीकृष्ण से पक्षीराज गरुड़ ने पूछा- हे प्रभु ! पृथ्वी पर लोग अपने मृत पितरों का श्राद्ध करते हैं. उनकी रुचि का भोजन ब्राह्मणों आदि को कराते हैं. पर क्या पितृ लोक से पृथ्वी पर आकर श्राद्ध में भोजन करते पितरों को […]

Read More »

दिल्ली के शिव मंदिरों का इतिहास

दिल्ली के शिव मंदिरों का इतिहास

दिल्ली के शिव मंदिरों का इतिहास दिल्ली, आगरा और जयपुर के स्वर्ण त्रिभुज में कई शिव मंदिर, या शिवलीलाएँ हैं दिल्ली के शिव मंदिरों का इतिहास । हाल ही में जयपुर की यात्रा करते समय, मैं अलवर में एक खड़ी पहाड़ी पर रुक गया, जो कि एक छोटा सा शिव मंदिर था, जिसमें हवा में […]

Read More »
RSS
Follow by Email