brahmins

करवा चौथ 2019 इस तरह से करवा चौथ का व्रत शुरू हुआ, देवताओं की लड़ाई से जुड़ी घटना

करवा चौथ 2019व्रत शुरूहुआ

करवा चौथ 2019व्रत शुरूहुआ करवा चौथ 2019व्रत शुरूहुआ करवा चौथ 2019 का इतिहास और महत्व: सुहागिन महिलाएं अपने पति के सौभाग्य, दीर्घायु और खुशहाल जीवन के लिए करवा चौथ का व्रत रखती हैं। पूरे दिन करवा चौथ का व्रत रखकर महिलाएं विधि विधान के साथ शिव और गौरी की पूजा करती हैं। रात में, एक […]

Read More »

इस तरह त्योहारों पर अपने घर को सजाएं

इस तरह त्योहारों पर अपने घर को सजाएं

इस तरह त्योहारों पर अपने घर को सजाएं इस तरह त्योहारों पर अपने घर को सजाएं, त्यौहार ही हैं जो हमारे जीवन में नई खुशियाँ लाते हैं। ऐसे में हमें इन पलों को पूरे उत्साह के साथ मनाना चाहिए। साल भर होने वाले त्योहारों के अवसर पर, हमें अपने चारों ओर फैली नकारात्मक ऊर्जा को […]

Read More »

बोध ही ईश्वर को जानने का साधन है।

बोध ही ईश्वर को जानने का साधन

बोध ही ईश्वर को जानने का साधन है। इंद्रियों के माध्यम से आप दुनिया को देख सकते हैं, अनुभव कर सकते हैं, लेकिन भगवान को देखने के लिए एक गहन भावना की आवश्यकता होती है। भगवान की उपस्थिति भावना के माध्यम से महसूस की जा सकती है, इंद्रियों के माध्यम से नहीं। बोध ही ईश्वर […]

Read More »

आत्मा की भावुक सफर

आत्मा की भावुक सफर

आत्मा की भावुक सफर आत्मा की भावुक सफर, उपनिषदों, शास्त्रों, पुराणों और इतिहास में दिवंगत आत्मा की यात्रा के लिए कई संदर्भ हैं, एक बार जब यह अपने नश्वर शरीर को बहा देता है। विडंबना यह है कि यह इस मुद्दे पर सोचने के लिए इस जीवनकाल के दौरान जीने के लिए असंगत या अनावश्यक […]

Read More »

शरद पूर्णिमा के दिन, चंद्रमा अमृत की वर्षा करता है, इसके महत्व को जानें On the day of Sharad Purnima, the moon rains amrit, know its importance

Sharad Purnima, the moon rains amrit

On the day of Sharad Purnima, the moon rains amrit, know its importance On the day of Sharad Purnima, the moon rains amrit, know its importance: आश्विन माह की पूर्णिमा को शरद पूर्णिमा के रूप में मनाया जाता है, जो इस बार 13 अक्टूबर, रविवार को है। इस बार शरद पूर्णिमा अमृत योग और सर्वार्थ […]

Read More »

इंद्रिय निग्रह के दो भेद हैं-अंत:करण और बहि:करण

इंद्रिय निग्रह के दो भेद हैं-अंत:करण और बहि:करण

इंद्रिय निग्रह के दो भेद हैं-अंत:करण और बहि:करण इंद्रिय निग्रह के दो भेद हैं-अंत:करण और बहि:करण। मन, बुद्धि और अहंकार तथा चित्त-इनकी संज्ञा अंत:करण है और दस इंद्रियों की संज्ञा बहि:करण है। अंत:करण की चारों इंद्रियों की कल्पना भर हम कर सकते हैं, उन्हें देख नहीं सकते, लेकिन बहि:करण की इंद्रियों को हम देख सकते […]

Read More »

नीलम के पत्थर को धारण करते ही प्रभाव दिखाना शुरू

नीलम के पत्थर को धारण करते ही प्रभाव दिखाना शुरू

नीलम के पत्थर को धारण करते ही प्रभाव दिखाना शुरू हो जाता है। मनुष्य अपने जीवन को सजाने के लिए कई रत्न पहनते हैं। प्राचीन काल से, ग्रहों के प्रभाव से बचने, दर्द को दूर करने और अपने स्वास्थ्य को सही रखने के लिए मनुष्यों ने विभिन्न प्रकार के रत्न पहने हैं। नीलम ऐसा ही […]

Read More »

मुक्ति के लिए भक्ति

मुक्ति के लिए भक्ति जब मनुष्य

मुक्ति के लिए भक्ति मुक्ति के लिए भक्ति जब मनुष्य की आत्मा प्रभु के कमल तक पहुँचने की लालसा होती है तो भक्ति एक आंतरिक अनुभव है। बेचैन मानव मन सांसारिक मामलों में शामिल होने पर भय और सभी प्रकार के भय को दिया जाता है। यह सब केवल जन्म के चक्र में एक और […]

Read More »

गरुड़ के लिए एक सबक

गरुड़ के लिए एक सबक

गरुड़ के लिए एक सबक श्रीमद्भागवतम् में, हरि नाम के एक योगीश्वर ने राजा निमि को भगवत् की विशेषताओं के बारे में बताया, कहा कि टी.टी. प्रवचन में शेषाद्री। हरि कहते हैं कि एक भगवत् भक्त को अपने निवास स्थान के कारण हीन नहीं समझेगा। पिल्लई लोकाचार्य ने अपने श्रीवचन भूषणम में, एक उदाहरण के […]

Read More »

शारदीय नवरात्रि 2019: शारदीय नवरात्रि, भगवान शिव और माँ गौरी भी अमृत सिद्धि और सर्वार्थ सिद्धि योग में कृपा होगी

भगवान शिव और माँ गौरी

भगवान शिव और माँ गौरी भी अमृत सिद्धि और सर्वार्थ सिद्धि योग में कृपा होगी भगवान शिव और माँ गौरी भी अमृत सिद्धि और सर्वार्थ सिद्धि योग में कृपा होगी । शारदीय नवरात्र रविवार 29 सितंबर से शुरू होंगे। नवरात्रि में पूरे नौ दिनों तक माँ दुर्गा की पूजा की जाएगी। इस बार किसी तिथि […]

Read More »

ब्राह्मण के क्रोध और आत्मसम्मान का प्रतीक हे कुलधरा

ब्राह्मण के क्रोध और आत्मसम्मान का प्रतीक हे कुलधरा

कुलधरा – ब्राह्मणों के क्रोध का प्रत्तिक जहां आज भी लोग जाने से डरते हैं। राजस्थान के जैसलमेर शहर से 18 किमी दूर स्थित कुलधरा गाव आज से 500 साल पहले 600 घरो और 85 गावो का पालीवाल ब्रह्मिनो का साम्राज्य ऐसा राज्य था जिसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती हे… रेगिस्तान के बंजर […]

Read More »
RSS
Follow by Email
Facebook
Twitter